How-To-Guide hindi Search

जब हो मस्सों से परेशान तो कोई चिंता वाली बात नहीं






मस्से छालों का ऐसा प्रकार है जिनमें दर्द तो नहीं होता लेकिन इनसे परेशानी ज़रूर होती है। आमतौर पर लेज़र सर्जरी और डर्मटॉलजिकल ट्रीटमेंट्स की मदद से इनसे राहत पायी जा सकती है। लेकिन, कुछ मामलों में तो आप घर पर ही इनका इलाज कर सकते हैं। कुछ घरेलू नुस्खे बता रहे हैं हम यहां :-

•  केले का छिलका- श्रीमती गीता रमेश, डायरेक्टर ऑफ केरला आयुर्वेद ग्रुप कहती हैं कि केले छिलका न केवल दर्द या परेशानी कम करने में मदद करता है बल्कि मस्से को फैलने से रोकता है। एक केले का छिलका लें और इसे बैंड-एड की तरह इस्तेमाल करें, यानि छिलके के भीतर वाला हिस्सा मस्से के संपर्क में आ रहे। इसे रातभर ऐसे ही रखें और जल्दी राहत के लिए कुछ दिनों तक यूं ही इस्तेमाल करें।

•  अम्लबेत की पत्तियां- आम तौर पर आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल किया जाता है। अम्लबेत या इंडियन सॉरल लीव्स भी मस्से से आराम दिला सकती हैं। इसके लिए, थोड़ा-से पानी के साथ इन पत्तियों का एक पेस्ट बनायें। इसे दिन में दो बार मस्से पर रगड़ें जब तक कि इसे गिरने से शुरू नहीं हो जाता।

•  प्याज- रसोई में इस्तेमाल होनेवाली प्याज आपको मस्से से आराम पाने में मदद कर सकती है, विशेष रूप से वायरल इंफेक्शन के कारण होनेवाले मस्सों से। जैसा कि एच. के. बाखरू की एक किताब में कहा गया है कि, मस्से पर प्याज में एंटीवायरल और एंटीबैक्टेरियल तत्व होते हैं। इसीलिए प्याज को काटकर मस्सों पर रखने से काफी मदद होती है।

•  फिग- अंजीर या फिग के पेड़ से मिलनेवाले चिपचिपे पदार्थ या लेटेक्स को मस्से के इलाज के लिए काफी समय से इस्तेमाल किया जाता रहा है। यही नहीं पर मस्सों पर इस लेटेक्स के इस्तेमाल के कोई साइड-इफेक्ट्स नहीं दिखायी पड़ते। बल्कि इसे लगाने से नये मस्से आना भी कम हो जाता है। दरअसल फिग लेटेक्स में मौजूद लेटेक्स एंजाइमों द्वारा प्रोटीओलोइटिक के कारण आपको मस्सों से राहत मिलती है।