How-To-Guide hindi Search

घर पर बनाएं अपने बच्चे के लिए टीथर कैसे






दांत आने का समय बच्चों के लिए दर्दनाक होता है। ज़ाहिर है इस दौरान बच्चों के मसूड़ों में दर्द होता है जिस वजह से उन्हें टीथर जैसी चीज़ें देनी पड़ती है। वैसे बाज़ार में कई तरह के टीथर्स मिलते हैं जिनके बारे में दावा किया जाता है कि उनसे मसूड़ों का दर्द शांत होता है। लेकिन इनसे पेट के विभिन्न इन्फेक्शन होने का ख़तरा होता है। ज़ाहिर है टीथर को मुंह में डालने से उस पर लार लग जाती है। कई बार ज़मीन पर गिर जाने से उस पर धूल-मिट्टी लग जाती है। ऐसे में उसे मुंह में लेने से बैक्टीरिया बच्चे के मुंह में जा सकता है। खैर अगर आप बाज़ार के टीथर इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं, तो हम आपकी मदद कर सकते हैं। हम आपको घर पर ही टीथर बनाने का तरीका बता रहे हैं जो सस्ता, प्रभावी और मसूड़ों के लिए कोमल है।

○  ऐसे बनाएं टीथर

•  कुछ रुमाल लें, उन्हें धोकर सुखा लें।
•  दो-तीन रुमालों को बांध लें और एक छोर से मोड़कर बॉल बना लें। रुमाल का एक छोर फ्री रखें।
•  रुमालों को फ्रिज़ में रख दें और बच्चे के मसूड़ों में दर्द होने पर उसे रुमाल की बॉल चबाने को दें।
•  उसके चबाने के बाद रुमाल को धो लें।
•  बेशक इन्हें बार-बार धोना झंझटभरा काम लग सकता है लेकिन यह ज़रूरी है।

○  बच्चों के दांत आने के दौरान इन बातों का रखें विशेष ध्यान

•  अगर आपके बच्चे के मसूड़ों में दर्द हो रहा है, तो उसे फीडिंग ना कराएं। क्योंकि वह आपके निप्पल पर ज़ोर से काट सकता है।
•  दांत आने के दौरान उसे ग्राइप वॉटर और अन्य दर्द निवारक दवाएं देने से बचें। उसकी छोटी-छोटी आंतें इन चीजों को नहीं झेल सकती हैं।
•  उसे बेहतर महसूस कराने के लिए अपनी उंगलियों से धीरे-धीरे उसके मसूड़ों की मालिश करने की कोशिश करें।